Islamic Fatwa Hindi : गैर मुस्लिम से मंत्र पढ़ा कर इलाज करवाना कैसा है?

islamic fatwa hindi

islamic fatwa hindi : Mantar Padh Kar Ilaaj Karna

फतावा रहीमियह के सवाल जवाब के सिलसिले का एक महत्वपूर्ण सवाल “गैर मुस्लिम से मंत्र पढ़ा कर इलाज करवाना कैसा है?” इस सवाल का जवाब जानना ज़रूरी है, आजकल लोग बेझिझक उनसे इलाज करवाते हैं जो इलाज के दौरान ग़ैरूल्लाह (अल्लाह के अलावा किसी और) से सहायता मांगते हैं, और इसमें कोई बुराई नहीं समझते। इस तरह से खिलाफ तौहीद मंत्र पढ़ा कर इलाज करवाना जाइज़ नहीं है.

फतावा रहीमियह में है

सवाल: आंख में तकलीफ होना, चेचक निकलना, हाथ पैर बेकार हो जाना या बाबर अर्थात् (भूत बुला आदि) की शिकायतें हो तो ग़ैर मुस्लिम के पास जो खिलाफ तौहीद (एकेश्वरवाद के विरुद्ध) मंत्र पढ़ कर दम करता है, जाना और मंत्र पढ़वा कर दम करवाना जाइज़ है या नहीं? कई लोगों को फायदा भी होता है.

जवाब: जब यह विश्वास है कि मंत्र शब्द और मज़मून खिलाफ तौहीद और शिरकिया हैं तो उस व्यक्ति से अमल कराना जाइज़ नहीं। रहा फ़ायदा होना तो यह सही होने की दलील नहीं है।

फतावा रहीमियह | जिल्द अव्वल | किताब उल ईमान वल अक़ाइद | पृष्ठ: ४३

Mazeed :  Hindi Articles   |   Fatawa Rahimiyah Hindi

Sharing is caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published.